मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

🌼जय श्रीकेदारनाथ जी महाराज🌼 🍃प्रातःकालीन दर्शन🍃 🌺सोमवार १७/६/१९ प्रातः ०६:३० बजे🌺

🌼जय श्रीकेदारनाथ जी महाराज🌼
🍃प्रातःकालीन दर्शन🍃
🌺सोमवार १७/६/१९ प्रातः ०६:३० बजे🌺

+68 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 13 शेयर

कामेंट्स

Anuradha Tiwari Jul 19, 2019

+32 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 2 शेयर
mahakal vedic Kendra Jul 20, 2019

" #शिवलिंग - #हल्दी_और_मेहँदी " शिवलिंग एक ऐसी शक्ति है, जिसकी पूजा से हमारी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। शिवलिंग यानी शिवजी का साक्षात रूप। विधि-विधान से शिवलिंग का पूजन करने से महादेव प्रसन्न होते हैं और साथ ही सभी देवी-देवताओं की कृपा भक्त को प्राप्त होती है। शास्त्रों के अनुसार सभी देवी-देवताओं के विधिवत पूजन आदि धार्मिक कर्मों मे बहुत सी सामग्रियां सम्मिलित की जाती हैं। इन सामग्रियों मे 'हल्दी' भी है। पूजन कर्म मे हल्दी का महत्वपूर्ण स्थान है। कई पूजन विधियां ऐसी हैं जो हल्दी के बिना पूर्ण नहीं मानी जा सकती। हल्दी एक औषधि भी है और हम इसका प्रयोग सौंदर्य प्रसाधन मे भी करते हैं। पूजन मे हल्दी ,गंध और औषधि के रूप में प्रयोग की जाती है। हल्दी शिवजी के अतिरिक्त लगभग सभी देवी-देवताओं को अर्पित की जाती है। हल्दी का स्त्री सौंदर्य प्रसाधन में मुख्य रूप से उपयोग किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग पुरुष तत्व का प्रतीक है और इसी वजह से महादेव को हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है। शिवलिंग पर हल्दी नहीं चढ़ाना चाहिए लेकिन जलाधरी पर चढ़ाई जानी चाहिए। शिवलिंग दो भागों से मिलकर बनी होती है। एक भाग शिवलिंग शिवजी का प्रतीक है और दूसरा भाग जलाधारी माता पार्वती का प्रतीक है। शिवलिंग चूंकि पुरुष तत्व का प्रतिनिधित्व करता है अत: इस पर हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है। हल्दी स्त्रियों के सौंदर्य प्रसाधन की सामग्री है और जलाधारी मां पार्वती की प्रतीक है अत: इस पर हल्दी चढ़ाई जानी चाहिए। - जलाधरी पर कभी दिया नहीं जलाते - शिवलिंग पर चढ़ाया हुआ नारियल कभी फोड़ा नहीं जाता उसे विसर्जित कर दिया जाता है। - शिवलिंग भगवान् शंकर का प्रतीक होने के कारण उसे तुलसी के नीचे नहीं रखा जाता , तुलसी के नीचे शालिग्राम ( भगवान् विष्णु का निर्गुण रूप ) रखा जाता है. - शिवलिंग पर तुलसी की मंजरी (तुलसी के फूल) चढ़ाए जाते हैं। - भोलेनाथ को पूजा मे मेंहदी नहीं चढ़ाई जाती। इससे जुड़ी एक कथा के अनुसार मेंहदी का पौधा कामधेनु के रक्त से उत्पन्न माना जाता है। इसीलिए पूजा मे शिवजी को मेंहदी नहीं चढ़ाई जाती है। उस कथा के अनुसार जमदग्नि ऋषि के पास कामधेनु गाय थी , जिसे सहस्त्रार्जुन ने आश्रम से ले जाना चाहा और उसने इसी प्रयास मे कामधेनु को कुछ तीर मारे और जब उन तीरों से घायल कामधेनु का रक्त जमीन पर गिरा तो मेंहदी का पौधा उत्पन्न हुआ। इसीलिए हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार शिवजी को मेंहदी नहीं चढ़ाई जाती। !! #ॐ_नमः_शिवाय !!

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 13 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB