Vijay Dubey
Vijay Dubey Apr 10, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Madhuri Dixit May 31, 2020

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Malti Gaur May 31, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Madhuri Dixit May 31, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vandana Singh May 31, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
rajeet sharma May 31, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
rajeet sharma May 31, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Aruna Sharma (anu) May 31, 2020

प्रणाम सभी 👭बहन भाईयों को 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 🔥🔥🔥गृहे गृहे"यज्ञ"🔥🔥🔥 यज्ञ का समस्त सामान उपलब्ध हो तो यज्ञ अवश्य करें, यदि किन्ही कारणवश यज्ञ का समस्त सामान *उपलब्ध नहीं है, तो निम्नलिखित विधि से यज्ञ में* जुड़े:- याज्ञवल्क्य जी यज्ञ के प्रणेता ऋषि हैं, *उन्होंने यज्ञ के समस्त* *सामान उपलब्ध न होने पर किस प्रकार यज्ञ कर सकते हैं* यह बताया है। 1- यज्ञ हेतु आम की लकड़ी न मिले तो सूखे *नारियल के टुकड़ों को समिधा* की तरह उपयोग कर यज्ञ करें। या गोमयकुण्ड (गोबर से बने उर्जादीपकों) में सूक्ष्म यज्ञ करें। 2- हवन सामग्री न उपलब्ध तो *गुड़ व घी को हवन सामग्री* की तरह उपयोग करें। 3- यदि यज्ञ की सुविधा नहीं बन पा रही तो *पाँच दीपक जलाकर दीपयज्ञ करें।* मिट्टी के दीपक उपलब्ध न हों तो आटे के दीपक बना लें। 4- हॉस्टल में रहने वाले बच्चों को यदि रुई व घी भी किन्ही कारणवश उपलब्ध न हों तो *पांच कपूर * जलाकर कर्पूर यज्ञ कर लें। 5- हॉस्टल में रहने वाले बच्चों को यदि रुई व घी, कर्पूर कुछ भी किन्ही कारणवश उपलब्ध न हों तो एक खाली कटोरी लें और उसमें दूसरी कटोरी से चम्मच से जल डालते हुए *जल से जल में यज्ञ* अवश्य कर लें। 6- सैनिक व पुलिस ड्यूटी करने वाले भाई बहन, सुबह घर पर यज्ञ करके ड्यूटी के लिए निकल सकते हैं। यदि किन्ही कारणवश घर पर यज्ञ नहीं हो पाया और आप सुबह 8 से 12 ड्यूटी पर हो तो *सूर्य को यज्ञकुंड* मानकर उनका आह्वाहन करे, ड्यूटी पर खड़े खड़े *मौन मानसिक 24 गायत्री मंत्र और 5 महामृत्युंजय मंत्र जपकर आहुति* दे दें। मौन मानसिक यज्ञ में जूते उतारने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इसमें शरीर कोई कार्य नहीं करता। मन से यज्ञ होगा। 7- जो कोरोना या अन्य कारणों से हॉस्पिटल में भर्ती हैं, या जिनके परिजन भर्ती हैं और वह अस्पताल में ड्यूटी दे रहे हैं, वह हॉस्पिटल में बैठे बैठे सूर्य का नेत्र बन्द करके ध्यान कर लें, या *भावनात्मक रूप से* ध्यान में पहले हरिद्वार में गंगा स्नान करें, फिर वहां से शान्तिकुंज हरिद्वार के यज्ञ स्थल आकर, ध्यान में यज्ञ कर लें। 🔥 सभी यज्ञ अवश्य करें, माध्यम चाहे कोई भी चुने, देशहित-समाजहित इस महाअभियान - *गृहे गृहे यज्ञ - 31 मई* से अवश्य जुड़े। यज्ञ से ही सबका कल्याण है जुड़ा है।🔥 🙏🙏🌷🌹जय श्री राधे राधे 🌹🌷🙏🙏

+26 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sanjay Singh May 31, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB