मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
netaji
netaji Jun 10, 2019

Jai bholenath

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Rajendra Joshi Jul 15, 2019

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 9 शेयर
Rajendra Joshi Jul 15, 2019

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर
MAHESH BHARGAVA Jul 15, 2019

इस मंत्र का करें जाप इस मंत्र का हिंदी अर्थ✍️✍️ महामृत्युंजय मंत्र ॐ हौं जूं स: ॐ भूर्भुव: स्व: ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्व: भुव: भू: ॐ स: जूं हौं ॐ !! महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ त्रयंबकम- त्रि.नेत्रों वाला ;कर्मकारक। यजामहे- हम पूजते हैं, सम्मान करते हैं। हमारे श्रद्देय। सुगंधिम- मीठी महक वाला, सुगंधित। पुष्टि- एक सुपोषित स्थिति, फलने वाला व्यक्ति। जीवन की परिपूर्णता वर्धनम- वह जो पोषण करता है, शक्ति देता है। उर्वारुक- ककड़ी। इवत्र- जैसे, इस तरह। बंधनात्र- वास्तव में समाप्ति से अधिक लंबी है। मृत्यु- मृत्यु से मुक्षिया, हमें स्वतंत्र करें, मुक्ति दें। मात्र न अमृतात- अमरता, मोक्ष। महामृत्युंजय मंत्र का सरल अनुवाद इस मंत्र का मतलब है कि हम भगवान शिव की पूजा करते हैं, जिनके तीन नेत्र हैं, जो हर श्वास में जीवन शक्ति का संचार करते हैं और पूरे जगत का पालन-पोषण करते हैं।

+904 प्रतिक्रिया 138 कॉमेंट्स • 2432 शेयर
Rajendra Joshi Jul 15, 2019

+15 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Rajendra Joshi Jul 15, 2019

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Rajendra Joshi Jul 15, 2019

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Rajendra Joshi Jul 15, 2019

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Rajendra Joshi Jul 15, 2019

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB