साईंबाबा

🕉🕉साईं राम 🌹🌹🙏🙏 भगवान नहीं पहुंचे 🌱🌿🌱🌿🌱🌿🌱🌿🌿☘🌿☘🌿☘🌿☘ एक मोची था जिसे रात में भगवान ने सपना दिया और कहा कि कल सुबह मैं तुझसे मिलने तेरी दुकान पर आ रहा हूँ | मोची बेहद गरीब था और उसकी छोटी सी दुकान से कम आमदनी के जरिये जीवन गुज़ार रहा था | मगर इन सब के बाद भी वह खुश रहता था| वह एक सच्चा, ईमानदार और परोपकारी व्यक्ति था | मोची जब सुबह जागा तो उसने तैयारी शुरू कर दी| भगवन के आव भगत के लिए वह चाय, दूध,नाश्ते और मिठाई का प्रबंध करने लगा |दुकान की साफ सफाई करने के बाद वह भगवान की बात जोहने लगा |उसने देखा की सुबह से हो रही बारिश जारी है और उसमे एक सफाई करने वाली भीगकर ठण्ड से कैंप रही है मोची एक दयालु इंसान था | उसने भगवान के लिए लाए गये दूध से चाय बनाकर उस महिला को पीला दी | दोपहर के समय एक महिला ने उससे कहा मेरा बच्चा भूखा है इसलिए पीने के लिए दूध चाहिए| अब मोची ने बचा हुआ दूध भी बच्चे को पीने के लिए दे दिया| भगवान् अभी तक नहीं आये थे और मोची इंतज़ार कर रहा था | इसी बीच एक बूढ़ा आदमी आया और बोलै मैं भूखा हूं | इतना सुन मोची ने मिठाई उसको दे दी| अब दिन बीत गया था और रात हो गई थी दिनभर के इंतज़ार के बाद मोची से रहा न गया और वह बोलै “वाह रे भगवान सुबह से रात कर दी मैंने तेरे इंतजार में लेकिन तू वादा करने के बाद भी नहीं आया|क्या मैं गरीब ही तुझे बेवकूफ बनाने के लिए मिला था|”तभी आकाशवाणी हुई और भगवान ने कहा कि “मैं आज तेरे पास एक बार नहीं, तीन बार आया और तीनों बार तेरी सेवाओं से में प्रसन्न हूँ | वे तीनों लोग जो दिनभर में तेरी दुकान पर आये वह में ही था | मजबूर व्यक्ति की मदद और दया की भावना ही ईश्वर की सच्ची पूजा है | परोपकार का भाव ईश्वर को प्रसन्न करता है| #👏

+1027 प्रतिक्रिया 160 कॉमेंट्स • 666 शेयर

+143 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 118 शेयर