शनिदेव

Dr.ratan Singh Feb 22, 2020

🚩 🌿🌹जय श्री राम🌹🌿🚩 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ 🎪🌲🌺ॐ श्री शनिदेवाय नमः🌺🌲🎪 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️ 🚩🎆🍑ॐ श्री हनुमन्ते नमः🍑🎆🚩 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 ⚛️🌳🏵️शुभ शनिवार🏵️🌳⚛️ 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 🌹🌻🎆 सुप्रभात 🌻🎆🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️🌹 🎎आप और आपके सम्पूर्ण परिवार पर श्रीराम भक्त🥀 🍑हनुमान जी भगवान शनिदेव जी और की कृपा 🌹 💐दृष्टि सदा बनी रहे और सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो 🙏 🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆 🍑आपका शनिवार का प्रातः काल शुभ अतिसुन्दर🍑 🎭चिन्तामुक्त शांतिमय और मंगलमय व्यतीत हो🎭 🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴 🚩🌿🌺जय श्री राम🌹🌿🚩 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ ⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️

+970 प्रतिक्रिया 257 कॉमेंट्स • 149 शेयर
Mahesh Malhotra Feb 8, 2020

+207 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 235 शेयर

🕉🕉हनुमते नमः 🌹🌹🙏🙏 🌿🌺🌹🌴🌿🌾🥀🍁🌼🌻☘🍀🌷🌹🌺🍁 एक व्यक्ति ने अपने मित्र से कहा, *मैं आपसे बहुत प्रेम करता हूं।* उसने पूछा कि "क्यों करते हो?" तो पहले व्यक्ति ने उत्तर दिया, *मैं नहीं जानता, कि मैं आपसे प्रेम क्यों करता हूं।* उसके इस कथन में यह तो स्पष्ट है कि वह अपने मित्र से प्रेम करता है, किसी न किसी गुण के कारण ही करता होगा। *क्योंकि गुणों का ही संसार में सम्मान होता है, गुणों के कारण ही प्रेम होता है।* वह इतना तो समझता है, कि इस मित्र में कुछ गुण हैं। परंतु कौन से गुण हैं, कितने गुण हैं, उनको स्पष्टता से नहीं समझ रहा, और बता नहीं पा रहा कि "मैं किन गुणों के कारण आप से प्रेम करता हूं।" लेकिन यदि कोई ऐसा कहे कि *मैं अमुक व्यक्ति से बहुत घृणा करता हूं।* तो घृणा का कारण पूछने पर वह स्पष्ट बता देता है कि, *अमुक व्यक्ति में यह दोष है, इस दोष के कारण मैं उस से घृणा करता हूं।* उसके इस उत्तर से पता चलता है कि जब कोई व्यक्ति, किसी दूसरे से प्रेम करता है तो अनेक बार वह कारण को स्पष्ट नहीं कर पाता। परंतु जब घृणा करता है, तो स्पष्टता से उत्तर देता है कि "मैं इन दोषों के कारण घृणा करता हूं।" इससे यह पता चला कि प्रेम उतना अभिव्यक्ति कारक नहीं है, जितनी की घृणा। इसलिए यदि आप किसी से प्रेम करते हैं, तो उसका कारण - उसके गुणों को भी समझें, पहचानें। आवश्यकता पड़ने पर उन गुणों को बताएं भी, कि *मैं इन गुणों के कारण आपसे प्रेम करता हूं. जैसे घृणा का कारण स्पष्टता से बतला पाते हैं।* बल्कि हो सके, तो उन गुणों को अवश्य पहचानें, जिनके कारण आप उस से प्रेम करते हैं।* और *घृणा तो न ही करें, क्योंकि यह हानिकारक है। घृणा करने से दूसरे की हानि तो नहीं होती, या कम होती है, बल्कि अपनी हानि अधिक होती है।* तो बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी हानि नहीं करनी चाहिए, इसलिये गुणों के कारण दूसरों से प्रेम अवश्य करें, घृणा नहीं। - *स्वामी विवेकानंद परिव्राजक* #✍️

+697 प्रतिक्रिया 106 कॉमेंट्स • 111 शेयर
Dr.ratan Singh Feb 1, 2020

🎎हनुमान जी द्वारा शनिदेव को दण्ड🎎 ********************************* 🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀 🚩🌿🌹जय श्री राम🌹🌿🚩 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️ 🚩🌲💐जय श्री हनुमान 💐🌲🚩 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 🔯 🌺🚩जय शनिदेव🚩🌺 🔯 💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫 🌋❇️🔥शुभ शनिवार🔥❇️🌋 ⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️ 🌞🌼🌻सुप्रभात🌻🌼🌞 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾🌾 🎎हनुमान जी द्वारा शनिदेव को दण्ड🎎 ******************************** 🚩एक बार की बात है। शाम होने को थी। शीतल मंद-मंद हवा बह रही थी। हनुमान जी रामसेतु के समीप राम जी के ध्यान में मग्न थे। ध्यानविहीन हनुमान को बाह्य जगत की स्मृति भी न थी।उसी समय सूर्य पुत्र शनि समुद्र तट पर टहल रहे थे। उन्हें अपनी शक्ति एवं पराक्रम का अत्यधिक अहंकार था। वे मन-ही-मन सोच रहे थे-‘मुझमें अतुलनीय शक्ति है। सृष्टि में मेरा सामना करने वाला कोई नहीं है। टकराने की बात ही क्या, मेरेे आने की आहट से ही बड़े -बड़े रणधीर एवं पराक्रमशील मनुष्ट ही नहीं, देव-दैत्य तक काँप उठते हैं। मैं क्या करूं, किसके पास जाऊँ, जहाँ दो -दो हाथ कर सकूं। मेरी शक्ति का कोई ढंग से उपयोग ही नहीं हो पा रहा है। 🔥जब शनिदेव यह विचार कर रहे थे, उनकी दृष्टि श्रीराम भक्त हनुमान पर पड़ी। उन्होंने हनुमान जी से ही दो हाथ करने की सोची। युद्ध का निश्चय कर शनि उनके पास पहुँचे।हनुमान के समीप पहुँच कर अत्यधिक उद्दण्डता का परिचय देते हुए शनि ने अत्यन्त कर्कश आवाज़ में कहा -‘बंदर! मैं महाशक्तिशाली शनि तुम्हारे सम्मुख उपस्थित हूँं। मैं तुमसे युद्ध करना चाहता हूँ। अपना फालतू का पाखण्ड त्याग कर खड़े हो जाओ, और युद्ध करो।’ 🎎तिरस्कार करने वाली अत्यन्त कड़वी वाणी सुनकर भक्तराज हनुमान ने अपने नेत्र खोले और बड़ी ही शालीनता एवं शान्ति से पूछा-‘महाराज! आप कौन हैं और यहाँ पधारने का आपका क्या उद्देश्य है?’शनि ने अहंकार पूर्वक कहा-‘मैं परम तेजस्वी सूर्य का परम पराक्रमी पुत्र शनि हूँ। जगत मेरा नाम सुनते ही काँप उठता है। मैंने तुम्हारे बल-पौरुष की कितनी गाथाएँ सुनी हैं। इसलिये मैं तुम्हारी शक्ति की परीक्षा करना चाहता हूँ। सावधान हो जाओ, मैं तुम्हारी राशि पर आ रहा हूँ।’ 🚩हनुमान जी ने अत्यन्त विनम्रतापूर्वक कहा-‘शनिदेव! मैं काफी थका हूँ और अपने प्रभु का ध्यान कर रहा हूँ। इसमें व्यधान मत डालिये। कृपापूर्वक अन्यत्र चले जाइये।’घमण्डी शनि ने अहंकारपूर्वक कहा-‘मैं कहीं जाकर लौटना नहीं जानता और जहाँ जाता हूँ, वहाँ अपना प्रभाव तो स्थापित कर ही देता हूँ।’ 🍑हनुमान जी ने बार-बार प्रार्थना की-‘देव! मैं थका हुआ हूँ। युद्ध करने की शक्ति मुझमें नहीं है। मुझे अपने भगवान श्रीराम का स्मरण करने दीजिए। आप यहाँ से जाकर किसी और वीर को ढूँढ लीजिए। मेरे भजन ध्यान में विध्न उपस्थिति मत कीजिए।‘कायरता तुम्हें शोभा नहीं देता।’घमण्ड से भरे शनि ने हनुमान कीअवमानना के साथ व्यंगपूर्वक तीक्ष्ण स्वर मे कहा-‘तुम्हारी स्थिति देखकर मुझे तुम पर दया तो आ रही है, किंतु युद्ध तो तुमसे मैं अवश्य करूंगा।’ इतना ही नहीं, शनि ने हनुमान का हाथ पकड़ लिया और उन्हें युद्ध के लिये ललकारने लगे। 💥हनुमान ने झटक कर अपना हाथ छुड़ा लिया। शनि ने पुनः हनुमान का हाथ जकड़ लिया और युद्ध के लिये खींचने लगे। ‘आप नहीं मानेंगे’ धीरे से कहते हुए हनुमान ने अपनी पूंछ बढ़ाकर शनि को उसमें लपेटना शुरू कर दिया। शनि ने अपने को छुड़ाने का भरसक प्रयास किया। उनका अहंकार, शक्ति एवं पराक्रम व्यर्थ सिद्ध होने लगा। वे असहाय होकर बंधन की पीड़ा से छटपटा रहे थे। 💐‘अब राम-सेतु की परिक्रमा का समय हो गया।’ हनुमान उठे और दौड़ते हुए सेतु की परिक्रमा करने लगे। शनिदेव की सम्पूर्ण शक्ति से भी उनका बन्धन शिथिल न हो सका। हनुमान की विशाल पूंछ दौड़ने से वानर-भालुओं द्वारा रखे गये पत्थरों पर टकराती जा रही थी। वीरवर हनुमान जानबूझकर भी अपनी पूँछ पत्थरों पर पटक देते थे। 🎎अब शनि की दशा बहुत दयनीय हो गयी थी। पत्थरों पर पटके जाने से उनका शरीर रक्त से लथपथ हो गया। उनकी पीड़ा की सीमा न थी और उग्रवेग हनुमान की परिक्रमा में कहीं विराम नहीं दिख रहा था। पीड़ा से व्याकुल शनि अब बहुत ही दुःखीत स्वर में प्रार्थन करने लगे-‘करुणामय भक्तराज! मुझ पर दया कीजिए। अपनी बेवकूफी का दण्ड में पा गया। आप मुझे मुक्त कीजिए। मेरे प्राण छोड़ दीजिए।’ 🌹दयामूर्ति हनुमान खड़े हुए। शनि का अंग-अंग लहुलुहान हो गया था। उनके रग-रग में असहनीय पीड़ा हो रही थी। हनुमान ने शनि से कहा-‘यदि तुम मेरे भक्त की राशि पर कभी न जाने का वचन दो तो मैं तुम्हें मुक्त कर सकता हूँ और यदि तुमने ऐसा किया तो मैं तुम्हें कठोरतम दण्ड प्रदान करूँगा।’ ‘वीरवर! निश्चय ही मैं आपके भक्त की राशि पर कभी नहीं जाऊँगा।’ पीड़ा से छटपटाते हुए शनि ने अत्यन्त आतुरता से प्रार्थना की-‘अब आप कृपापूर्वक मुझे शीघ्र बन्धन-मुक्त कीजिए।’ भक्तवर हनुमान ने शनि को छोड़ दिया। शनि ने अपना चोटिल शरीर को सहलाते हुए हनुमान जी के चरणों में सादर प्रणाम किया और चोट की पीड़ा से व्याकुल होकर अपनी देह पर लगाने के लिये तेल माँगने लगे। उन्हें तब जो तेल प्रदान करता, उसे वे सन्तुष्ट होकर आशीष देते। कहते हैं, इसी कारण अब भी शनि देव को तेल चढ़ाया जाता है। 🚩🌼🌹जय श्री राम 🌹🌼🚩 🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯 🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲

+942 प्रतिक्रिया 209 कॉमेंट्स • 63 शेयर
Dr.ratan Singh Feb 15, 2020

🚩 🌿🌹जय श्री राम🌹🌿🚩 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ 🎪🌲🌺ॐ श्री शनिदेवाय नमः🌺🌲🎪 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️ 🚩🎆🍑ॐ श्री हनुमन्ते नमः🍑🎆🚩 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 ⚛️🌳🏵️शुभ शनिवार🏵️🌳⚛️ 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 🌹🌻🎆 सुप्रभात 🌻🎆🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️✳️🌹 🎎आप और आपके सम्पूर्ण परिवार पर श्रीराम भक्त🥀 🍑हनुमान जी भगवान शनिदेव जी और की कृपा 🌹 💐दृष्टि सदा बनी रहे और सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो 🙏 🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆 🍑आपका शनिवार का प्रातः काल शुभ अतिसुन्दर🍑 🎭चिन्तामुक्त शांतिमय और मंगलमय व्यतीत हो🎭 🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴 🚩🌿🌺जय श्री राम🌹🌿🚩 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ ⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️

+700 प्रतिक्रिया 195 कॉमेंट्स • 48 शेयर
jatan kurveti Feb 7, 2020

+78 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 196 शेयर

+280 प्रतिक्रिया 31 कॉमेंट्स • 106 शेयर