शनिदेव

श्राद्ध पक्ष की अमावस्या को सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या कहते हैं। मान्यता है कि इस दिन सभी ज्ञात-अज्ञात पितरों का श्राद्ध करने से उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस बार 28 सितम्बर, शनिवार को यह अमावस्या है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, श्राद्ध पक्ष की अमावस्या पर कुछ विशेष उपाय करने से पितृ प्रसन्न होते हैं और पितृ दोष भी कम होता है। इसलिए इस दिन भी ये उपाय किए जा सकते हैं। #पीपल में पितरों का वास माना गया है ।सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या पर पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाएं और गाय के शुद्ध घी का दीपक लगाएं । #सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या पर किसी ब्राह्मण को भोजन के लिए घर बुलाएं या भोजन सामग्री जिसमें आटा, फल, गुड़ आदि का दान करें । #किसी पवित्र नदी में काले तिल डालकर तर्पण करें ।इससे भी पितृगण प्रसन्न होते हैं । #अपने पितरों को याद कर गाय को हरा चारा खिला दें ।इससे भी पितृ प्रसन्न व तृप्त हो जाते हैं । #इस अमावस्या पर चावल के आटे से 5 पिडं बनाएं व इसे लाल कपड़े में लपेटकर नदी में प्रवाहित कर दें । #गाय के गोबर से बने कंड़े को जलाकर उस पर घी-गुड़ की धूप दें और पितृ देवताभ्यो अर्पणमस्तु बोलें । #अमावस्या पर कच्चा दूध, जौ, तिल व चावल मिलाकर नदी में प्रवाहित करें ।ये उपाय सूर्योदय के समय करें तो अच्छा रहेगा । #आखिरी दिन पितृ अमावस्या होती है। इस दिन कुल के सभी पितरों का श्राद्ध किया जा सकता है। फिर चाहे उनकी मृत्यु तिथि पता न हो। तब भी आप पितृ अमावस्या पर उनका तर्पण कर सकते हैं। #सूर्यास्त से पहले ये उपाय करना है। इस उपाय में एक स्टील के लोटे में, दूध, पानी, काले व सफेद तिल और जौ मिला लें। इसके साथ कोई भी सफेद मिठाई, एक नारियल, कुछ सिक्के और एक जनेऊ पीपल के पेड़ के नीचे जाकर सबसे पहले ये सारा सामान पेड़ की जड़ में चढ़ा दें। इस दौरान सर्व पितृ देवभ्यो नम: का जप करते रहें। #ये मंत्र बोलते हुए पीपल को जनेऊ भी चढ़ाएं। इस पूरी विधि के बाद मन में सात बार ॐ नमो भगवते वासुदेवाय का जप करें और भगवान विष्णु से कहें मेरे जो भी अतृप्त पितृ हों वो तृप्त हो जाए। इस उपाय को करने से पितृ तृप्त होते हैं पितृ दोष का प्रभाव खत्म होता है और उनका अशीर्वाद मिलने लगता है। हर तरह की आर्थिक और मानसिक समस्याएं दूर होती हैं।

+27 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Sanjit Kumar Jan 11, 2020

+64 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 1 शेयर

*🌷॥ॐ॥🌷* *जय श्री राधे...👏* *जय हिन्द🇮🇳जय नमो🙏* ************************** *🔱शुभ शनिवार🌞* हम सबका हर पल मंगलमय हो ************************** *।।ॐ श्री शनैश्चराय नमः।।👏* *जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी....🙏* ************************** जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी.... श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी....... किरीट मुकुट शीश सहज दिपत है लिलारी मुक्तन की माल गले शोभित बलिहारी जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी........ मोदक मिष्टान पान चढ़त है सुपारी लोहा तिल तेल उडद महिषी अति प्यारी जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी........ देव दनुज ऋषि मुनि सूरत नर नारी विश्वनाथ धरत ध्यान शरण है तुम्हारी जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी........ 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🙏🔱🌷👏🌷🔱🙏

+21 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 8 शेयर

+44 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 1 शेयर

*🌷॥ॐ॥🌷* *जय श्री राधे...👏* *जय हिन्द🇮🇳जय नमो🙏* ************************** *🔱शुभ शनिवार🌞* हम सबका हर पल मंगलमय हो ************************** *॥ॐ श्री शनेश्वरै: नमः॥👏* *आज शनिवार है, शनिदेव का वार है....🙏* ************************** आज शनिवार है शनिदेव का वार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है आज शनिवार है शनिदेव का वार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 उसका बेड़ा पार है … शनि के मंदिर आके जो निशिदिन तेल चढ़ाता है -2 किरपा करते है शनिदेवा मनचाहा वर पाता है सच्चा दरबार है होती जयजयकार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है आज शनिवार है शनिदेव का वार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 उसका बेड़ा पार है … त्रिलोकी में शनि जैसा कोई और महान नहीं -2 अपने भक्तों के दुखों से शनिदेव अनजान नहीं होता बेड़ा पार है हो जाता उद्धार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 आज शनिवार है शनिदेव का वार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 उसका बेड़ा पार है… आज शनिवार है शनिदेव का वार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 उसका बेड़ा पार है… जिनकी दृष्टि से अब तक तो कोई नहीं बच पाया है -2 सभी देवता सर को झुकाते ऐसी इनकी माया है -2 चंचल सेवादार है लीला अपरम्पार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 आज शनिवार है शनिदेव का वार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 उसका बेड़ा पार है… आज शनिवार है शनिदेव का वार है एक बार जो दर्शन कर ले उसका बेड़ा पार है -2 उसका बेड़ा पार है… 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🙏🔱🌺👏🌺🔱🙏

+9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर

*🌷॥ॐ॥🌷* *जय श्री राधे...👏* *जय हिन्द🇮🇳जय नमो🙏* ************************** *🔱शुभ शनिवार🌞* हम सबका हर पल मंगलमय हो ************************** *॥🚩जय श्री शनिदेव॥👏* *दशरथकृत शनि स्तोत्र....🙏* ************************** *दशरथ उवाच:* प्रसन्नो यदि मे सौरे ! एकश्चास्तु वरः परः॥ रोहिणीं भेदयित्वा तु न गन्तव्यं कदाचन्। सरितः सागरा यावद्यावच्चन्द्रार्कमेदिनी॥ याचितं तु महासौरे ! नऽन्यमिच्छाम्यहं। एवमस्तुशनिप्रोक्तं वरलब्ध्वा तु शाश्वतम्॥ प्राप्यैवं तु वरं राजा कृतकृत्योऽभवत्तदा। पुनरेवाऽब्रवीत्तुष्टो वरं वरम् सुव्रत!॥ *दशरथकृत शनि स्तोत्र:* नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठ निभाय च। नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय वै नम:॥1॥ नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च। नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते॥ 2॥ नम: पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ वै नम:। नमो दीर्घाय शुष्काय कालदंष्ट्र नमोऽस्तु ते॥ 3॥ नमस्ते कोटराक्षाय दुर्नरीक्ष्याय वै नम:। नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने॥ 4॥ नमस्ते सर्वभक्षाय बलीमुख नमोऽस्तु ते। सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करेऽभयदाय च॥ 5॥ अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तु ते। नमो मन्दगते तुभ्यं निस्त्रिंशाय नमोऽस्तुते॥ 6॥ तपसा दग्ध-देहाय नित्यं योगरताय च। नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नम:॥ 7॥ ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज-सूनवे। तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात्॥ 8॥ देवासुरमनुष्याश्च सिद्ध-विद्याधरोरगा:। त्वया विलोकिता: सर्वे नाशं यान्ति समूलत:॥ 9॥ प्रसाद कुरु मे सौरे ! वारदो भव भास्करे। एवं स्तुतस्तदा सौरिर्ग्रहराजो महाबल:॥10॥ *दशरथ उवाच:* प्रसन्नो यदि मे सौरे ! वरं देहि ममेप्सितम्। अद्य प्रभृति-पिंगाक्ष ! पीडा देया न कस्यचित्॥ 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🙏🔱🌺👏🌺🔱🙏

+8 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Sunil Patel Patidar Oct 12, 2019

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 5 शेयर