मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
Mamta Chauhan Jun 18, 2019

+48 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 25 शेयर
Vinod Malvi Jun 18, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
neeta trivedi Jun 18, 2019

+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
poonam Jun 18, 2019

+3 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Mukesh khanuja Jun 18, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
singhvijaykumar Jun 18, 2019

ऊँ हनुमते नमः।शुभ मंगलवार ।जय श्रीराम जय हनुमान 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 🔔हनुमान चालीसा में सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी🔔 हनुमान चालीसा सैकड़ों साल पहले गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रची गई थी। इसमें तुलसीदासजी ने उस समय में ही बता दिया था कि सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी कितनी है। हनुमान चालीसा में किस प्रकार बताई गई है सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी :हनुमान चालीसा के इस दोहे में है सूर्य-पृथ्वी के बीच की दूरी: " जुग (युग) सहस्त्र जोजन (योजन) पर भानु। लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।" इस दोहे का सरल अर्थ यह है कि हनुमानजी ने एक युग सहस्त्र योजन की दूरी पर स्थित भानु यानी सूर्य को मीठा फल समझकर खा लिया था। आगे जानिए इस दोहे में किस प्रकार बताया गया है कि सूर्य और पृथ्वी की दूरी करीब 15 करोड़ किलोमीटर है! ये गणित छिपा है हनुमान चालीसा के दोहे में हनुमानजी ने एक युग सहस्त्र योजन की दूरी पर स्थित भानु यानी सूर्य को मीठा फल समझकर खा लिया था। एक युग= 12000 वर्ष एक सहस्त्र= 1000 एक योजन= 8 मील , युग x सहस्त्र x योजन = पर भानु अर्थात् 12000 x 1000 x 8 मील = 96000000 मील, एक मील = 1.6 किमी ।अतः 96000000 x 1.6 =15,3600000 करोड़ कि.मी. । इस गणित के आधार गोस्वामी तुलसीदास ने प्राचीन समय में ही बता दिया था कि सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी लगभग 15 करोड़ किलोमीटर है। आगे जानिए कैसे हैं एक युग में 12000 वर्ष . शास्त्रों के अनुसार एक युग में 12000 दिव्य वर्ष शास्त्रों के अनुसार एक लौकिक युग चार भागों में बंटा हुआ है। ये चार भाग हैं सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलियुग। इसी लौकिक युग के आधार पर मन्वंतर और कल्प की गणना ग्रंथों में की गई है। इस गणना के अनुसार चारों युगों का संध्या काल (युग प्रारंभ होने के पहले का समय) और संध्यांश (युग समाप्त होने के बाद का समय) के साथ 12000 दिव्य वर्ष माने गए हैं। चार युगों के दिव्य वर्षों की संख्या इस प्रकार है- सतयुग- 4000 दिव्य वर्ष त्रेतायुग- 3000 दिव्य वर्ष द्वापरयुग- 2000 दिव्य वर्ष कलियुग- 1000 दिव्य वर्ष इस प्रकार चारों युग के दिव्य वर्षों की संख्या है 10000 दिव्य वर्ष। चारों युगों के संध्या काल के दिव्य वर्ष हैं 400 + 300 + 200 + 100 = 1000 दिव्य वर्ष और संध्यांश के भी 1000 दिव्य वर्ष हैं। चारों युग के दिव्य वर्ष + संध्या काल के दिव्य वर्ष + संध्यांश के दिव्य वर्ष = कुल दिव्य वर्ष इस प्रकार 10000 + 1000 + 1000 = 12000 दिव्य वर्ष। आगे जानिए एक दिव्य वर्ष में मनुष्यों के कितने वर्ष होते हैं ? एक दिव्य वर्ष में मनुष्यों के 360 वर्ष माने गए हैं। अत: चारों युग में 12000 x 360 = 4320000 मनुष्य वर्ष हैं। अत: सतयुग 1728000 मनुष्य वर्षों का माना गया है। त्रेतायुग 1296000 मनुष्य वर्षों का माना गया है। द्वापरयुग 864000 मनुष्य वर्षों का माना गया है। कलियुग 432000 मनुष्य वर्षों का है, जिसमें से अभी करीब पांच हजार साल व्यतीत हो चुके हैं। कलियुग के अभी भी करीब 427000 मनुष्य वर्ष शेष हैं। आगे जानिए वह प्रसंग, जिसमें हनुमानजी ने सूर्य को खा लिया था । शास्त्रों के अनुसार हनुमानजी भगवान शंकर के ही अवतार हैं और उन्हें जन्म से ही उन्हें कई दिव्य शक्तियां प्राप्त थीं। हनुमान चालीसा के अनुसार एक समय जब बाल हनुमान खेल रहे थे, तब उन्हें सूर्य ऐसे दिखाई दिया जैसे वह कोई मीठा फल हो। वे तुरंत ही सूर्य तक उड़कर पहुंच गए। हनुमानजी ने स्वयं का आकार भी इतना विशाल बना लिया कि उन्होंने सूर्य को ही खा लिया। हनुमानजी के मुख में सूर्य के जाते ही पूरी सृष्टि में अंधकार फैल गया। सभी देवी-देवता डर गए। जब देवराज इंद्र को यह मालूम हुआ कि किसी वानर बालक ने सूर्य को खा लिया है तब वे क्रोधित हो गए। क्रोधित इंद्र हनुमानजी के पास पहुंचे और उन्होंने बाल हनुमान की ठोड़ी पर वज्र से प्रहार कर दिया। इस प्रहार से केसरी नंदन की ठोड़ी कट गई और इसी वजह से वे हनुमान कहलाए। संस्कृत में ठोड़ी को हनु कहा जाता है। हनुमान का एक अर्थ है निरहंकारी या अभिमानरहित। हनु का मतलब हनन करना और मान का मतलब अहंकार। यानी जिसने अपने अहंकार का हनन कर लिया हो। हनुमानजी अभिमान रहित हैं। जय हनुमान 🌐

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Raj Yaduvanshi Jun 18, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
NEha sharma 💞💞 Jun 18, 2019

+35 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 39 शेयर